प्रकृति की खूबसूरत वादियों का अगर मजा लेना है और गर्मी की छुट्टियों को जी भर के इंज्याय करना है तो आप के लिए एक जगह सबसे बेस्ट है। उस जगह का नाम है अंडमान-नीकोबार आईलैंड। भारत देश की सात यूनियन टैरेटरी यानी केंद्र शासित प्रदेशों में यह द्वीप समूह शामिल है। इसकी स्थापना 1 नवम्बर 1956 को हुई थी। इस द्वीप समूह की राजधानी है पोर्ट ब्लेयर। आइए सबसे पहले जानते हैं कि यह आईलैंड कहां पर है?

कहाँ हैं अंडमान निकोबार ?

अंडमान-निकोबार एक अकेला द्वीप नहीं है बल्कि यह करीब 572 द्वीपों का समूह है। इसलिए अगर आप यहां पर घूमने का मन बनाकर आए हैं तो आपको अलग-अलग फेरी या फिर शिप अथवा बोट का प्रयोग करना पड़ेगा।

अंडमान निकोबार कब जाएं ?

फ्रेंड्स, जब भी आप कहीं पर घूमने जाते हैं तो वहां के मौसम के हिसाब से जाते हैं। मान लीजिए आपको सर्दियों में कहीं पर घूमने जाना है तो आप ऐसी जगह बिलकुल जाना नहीं चाहेंगे जहां और भी ज़्यादा सर्दियां पड़ रही हों। क्योंकि अगर आप सर्दी के मौसम में किसी ठंडी जगह पर गए तो आपका कुल्फी जमना तो तय ही समझिए।

इसी प्रकार जब आप गर्मियों की छुट्टियों में कहीं घूमने का मन बनाते हैं तो जाहिर सी बात है आपके मन में सबसे पहले हिल स्टेशन पर जाने का विचार ही आता होगा। गर्मी के मौसम में ऐसी जगह नहीं जाते हैं जहां पर बहुत गर्मी पड़ती हो। इसी तरह जब आपको अंडेमान-नीकोबार आईलैंड जाना हो तो आपके लिए बेस्ट टाइम होगा अक्टूबर से फरवरी। लेकिन बरसात के समय में वहां जाना ठीक नहीं है। आपको अगर गर्मी के सीजन में ही यहां घूमने का टाइम मिल पा रहा है तो आप अप्रैल के एन्ड और मई के शुरूआती दिनों में यहां घूंमने अपने परिवार या दोस्तों के साथ आ सकते हैं।

ट्रिप पर आने वाला खर्च

फ्रेंड्स अगर हम कहीं भी घूमने का प्लैन करते हैं तो उसके लिए हमें कुछ न कुछ अमाउंट जरूर चुकानी पड़ती है। अगर हम कहीं होटल में जाते हैं तो वहां पर खाने का बिल पे करना पड़ता है। इसलिए अगर आप मिडल क्लास फैमिली से हैं और मन बना रहे हैं इस द्वीप समूह पर घूमने आने का तो आपको अपना बैंक बैलेंस 35 हजार रुपए प्रति व्यक्ति के हिसाब से लेकर चलना पड़ेगा। इसमें प्लेन की कॉस्ट भी शामिल होगी। यह हमने आपको एक हफ्ते की कॉस्ट बताई है। वैसे कुछ अन्य बातें भी हैं जिन पर आपका खर्च निर्भर करेगा।

  • क्या एक्टिविटीज कर रहे हैं : अगर आप यहां पर कई सारी एक्टिविटीज का आनंद लेना चाहते हैं तो आपको अपनी जेब भारी करके चलनी पड़ेगी जो बाद में इन एक्टिविटीज को करके अपने आप ढीली हो जाएगी।
  • होटल कौन सा है : इसके अलावा अगर आप महंगे होटल में रुकते हैं जैसे कि पांच या सात सितारा होटल, तो यहां पर आपको ज्यादा पैसा खर्च करना पड़ सकता है। वहीं अगर आपने नाॅर्मल होटल या रूम लिया है तो वो आपके बजट में फिट हो जाएगा।
  • क्या खा-पी रहे हैं : इसके अतिरिक्त आपके खाने पीने पर भी खर्चा डिपेंड करता है। अगर आप यहां की सभी डिशेस ट्राई करना चाहते हैं तो थोड़ा ज्यादा काॅस्ट लगेगा।

अगर आप कहीं भी घूमने जा रहे हैं और आपको खुद से ही सारा कुछ मैनेज करना है तो आपको कई बातों के बारे में पता होना चाहिए। जैसे कि जहां आप घूमने जा रहे हैं वहां क्या-क्या देखने लायक जगह है। कौन-कौन से होटल हैं जिनकी अच्छी खासी रिव्यु रेटिंग हो। यानि कि जिसका रिव्यु अच्छा दिया हो उसी होटल को चॉइस करें।

अगर आप बिना होमवर्क किए कहीं भी घूमने जाएंगे तो इस बात के पूरे चान्सेस हैं कि आप ठग लिए जाएं। यदि आप  पीक सीजन में अंडेमान-नीकोबार आईलैंड जाना चाहते हैं तो आपके लिए अच्छा यही होगा कि आप किसी ट्रैवल कंपनी के थ्रू अपने बजट के अनुसार बुकिंग और प्लैनिंग करवा लें।

अगर आप पीक के दिनों में नहीं जा रहे हैं तो फिर आप खुद से भी सब कुछ मैनेज कर सकते हैं। ये आपको सस्ता पड़ेगा। साथ ही आपके पास दूसरे होटल चोसे करने का विकल्प भी रहता है। अगर आप  कंपनी के थ्रू बुकिंग करवाते हैं तो आपके पास कोई विकल्प नहीं रहता कि अगर आपको वो होटल पसंद नहीं है तो आप उस होटल में न रहकर किसी दूसरे होटल को बुक कर सकें।

आपको फिर कम्पनी के हिसाब से ही चलना पड़ेगा। अगर आप पीक सीजन में यहां जाते हैं और भीड़ ज़्यादा मिली तो हो सकता है आपको होटल में एक भी बुकिंग न मिले। अगर मिलते भी हैं तो आपके बजट से बाहर के होटल मिलेंगे। फिर बजट वाले होटल को ढूंढना बहुत मुश्किल होगा। अब ये भी जानकारी आपको दे देते हैं कि आपको अपना टूर किस तरह प्लान करना हैै ताकि आप ज्यादा से ज्यादा जगह इस आईलैंड की घूम सकें।

कैसे प्लान करें

अगर आप अपने ट्रेवलिंग के कीड़े को शांत करना चाहते हैं तो आप यहां पर आने से पहले ट्रेवल बुकिंग कम्पनी से संपर्क कर लें। आप ट्रेवल कम्पनी को फ़ोन करके अपना प्लान e-मेल करने के लिए कह सकते हैं। कम्पनी का प्लान आप अपने व्हाट्सअप पर भी मंगवा सकते हैं।

आप को कम्पनी को कहना होगा कि वो आपको दो या तीन प्लान भेज दें जिस जगह आपको घूमने जाना है। इस प्लान में सारी डीटेल होती है कि कितनी काॅस्ट आएगी, कितने दिन का होगा टूर और क्या उसकी आइटनरी रहेगी। यानी कि आप किस दिन कहां घूमने वाले हैं यह भी उसमें लिखा होगा।

आप कुछ प्लान्स मंगा लीजिए। फिर उससे खुद का भी प्लान तैयार करके कम्पनी को कोई बहाना बनाकर मना कर दें या फिर आप उन्ही में से किसी प्लान को चॉइस कर सकते हैं।

क्रूज़ टिकट का क्या करें?

अंडमान-निकोबार में प्राइवेट और गवर्नमेंट दोनों ही तरह के क्रूज़ चलते हैं। अगर आप सरकारी क्रूज़ में घूमने निकलेंगे तो उसका दाम प्राइवेट क्रूज़ के मुकाबले लगभग आधा होता है। लेकिन उस टिकट का मिलना समझ लो ईद का चांद। बड़ी ही मुश्किल से मिलती है सरकारी क्रूज़ की टिकट। क्योंकि उनकी कोई ऑनलाइन बुकिंग होती ही नहीं है।

इसका टिकट वहीं पहुंच कर हमें लेना पड़ता है जो कि पहले से काफी लोग खरीद चुके होते हैं इसलिए उस जगह पहुंचकर इसका टिकट लेना मुश्किल है। तो वहीं दूसरी ओर प्राइवेट में आपके पास आप्शन हैं। आप उसकी ऑनलाइन से भी बुकिंग कर सकते हैं या फिर आप वहां पहुंच कर भी टिकट ले सकते हैं क्योंकि इसमें ज्यादा भीड़ नहीं होती है। ध्यान रहे दोस्तों, कुछ क्रूज़ कम्पनियां आपको अपने शिप के डेक पर नहीं जाने देती हैं। इनमें आपको क्लोज्ड स्पेस में बैठकर ही यात्रा करनी होती है। या फिर आप साइड में भी खड़े हो सकते हैं ये आपकी चॉइस है। इनमे आपको उतना मज़ा नहीं आने वाला है। लेकिन कुछ प्राइवेट क्रूज़ हैं जो आपको डेक पर जाने देंगी। आप उनमें जा सकते हैं। इन्ही पर ट्रेवल करने में मजा आएगा।

क्या  वीथिन आईलैंड घूमने के लिए गाड़ी करनी पड़ेगी?

जी हाँ, आप इनोवा भी ले सकते हैं। इसके अतिरिक्त अगर आपकी फैमिली बड़ी है तो आपको टेम्पो ट्रवेलेर करना पड़ सकता है। एक और बात, यहां पर पूरे दिन की बुकिंग नहीं होती है। आपको जिन स्पॉट्स पर जाना है केवल उन्हीं स्पॉट्स तक के लिए बुकिंग की जाती है जो कि आपको महंगी पड़ सकती है। अगर आपको पोर्ट ब्लेयर में घूमना है तो आप इसके लिए ऑटो भी कर सकते हैं जो आपके बजट में भी आएगा और आपके काफी पैसा बच सकता है।

क्या लेकर जाएं ?

दोस्तों, आप जो सामान बीचेस पर लेकर जाते हैं बस वहीं सब आपको यहां भी लेकर जाना होता है।

  • चप्पल
  • शॉर्ट्स और तीन से चार पैन्ट
  • टोपी या हैट
  • कुछ जीन्स, टी शर्ट्स, शर्ट्स (आप हमेशा पानी में ही नहीं रहेंगे)
  • Selfie खिचवाने और धूप से बचने के लिए गॉगल्स
  • छाता, ज़रूरी नहीं पर रहेगा तो ठीक है 
  • अगर आप गर्मी में यहां घूमने जा रहे हैं तो आपको Sun स्क्रीम  जरूर रखनी चाहिए क्योंकि यहां पर टैनिंग बहुत होती है
  • ज़रूरी दवाएँ 
  • कुछ लोगों को सिक्नेस की प्राॅब्लम शिपिंग के दौरान हो जाती है इसलिए सिक्नेस की दवा जरूर ले जाएं।
  • बहुत सी जगह ATM मिलने में दिक्कत हो सकती है। आपको अपने साथ कॅश रखना सेफ रहेगा।

कौन सा नेटवर्क करेगा काम?

  • वोडाफोन
  • एयरटेल
  • बीएसएनएल

ध्यान रहे दोस्तों, यहां पर आपका केवल फोन चल सकता है कि आप किसी से बात कर लें, इंटरनेट की सुविधा यहां नहीं रहेगी। यहां की इंटरनेट कनेक्टिविटी बहुत ही पूवर है। आप चाहें तो साइबर कैफे में जाकर नेट सर्फिंग कर सकते हैं। होटल के वाई-फाई से भी आपका काम चल जाएगा। मान लीजिए आपने होटल बुकिंग कराई है और उसका प्रूफ आपके जीमेल में है तो आप क्या करेंगे? ऐसे में आपको चाहिए कि आप पहले से ही हर चीज़ की हार्ड  कॉपी रखें ताकि जरूरत पड़ने पर प्रिंट आउट दिखा सकें। इसके अलावा टिकट, ट्रिप प्लान की भी हार्ड काॅपी अपने पास रखें।

अंडेमान-निकोबार कैसे जाएं ?

दो तरीके हैं :

  • फ्लाइट से 
  • क्रूज़ या शिप से 

वैसे प्लेन से जाना आपके लिए कम्फर्टेबल रहेगा। क्योंकि इससे आपका काफी टाइम बच जाएगा। आपको चेन्नई से भी इस जगह आने के लिए क्रूज़ या फिर फ्लाइट मिल सकती है।

भाषा क्या बोली जाती है ?

बांग्ला, अंग्रेजी, तमिल और हिंदी ,अगर आप हिंदी जानते हैं तो कोई दिक्कत नहीं होगी। हालांकि, यहाँ वेस्ट बंगाल और तमिल नाडु के बहुत से लोग बसे हुए हैं, इसलिए अगर आप बांगला या तमिल जानते हैं तो आप घर जैसा महसूस करेंगे।

अंडमान-निकोबार में कहाँ ठहरें?

दोस्तों, इस जगह ठीक से घूमना है तो आपको करीब 7 से 8 दिन का वक्त चाहिए। इसलिए आपको पोर्ट ब्लेयर में एक बेस होटल लेना चाहिए। आप बाकी के आईलैंड यहीं से घूमने जाएंगे।

हाँ, कुछ जगहों पर हो सकता है आपको नाइट स्टे करना पड़े। जैसे कि हैवलाॅक आइलैंड पर।

कहाँ.कहाँ घूमें ?

कुछ जगह हैं जो आपको जरूर देखनी चाहिए –

  • सेलुलर जेल। यहीं पर काले पानी की सजा दी जाती थी अंग्रेजों के टाइम में। यहां देर शाम लाइट एंड साउंड शो भी होता है।
  • नील Island (अब इसे शहीद द्वीप के नाम से जाना जाता है)
  • हेवलॉक Island (25 दिसम्बर 2018 से इसका नाम बदल कर स्वराज द्वीप हो गया है)
  • Ross आइलैंड (अब इस Island का नाम बदल कर नेता जी सुभाष बोस कर दिया गया है)। यहाँ के खूबसूरत पेड़ों से आपकी निगाह हटेगी ही नहीं।
  • राधानगर बीच, इस बीच पर आपको नहाने में बड़ा मजा जाएगा।
  • नाॅर्थ बे में जाकर आप स्कूबा डाइविंग का आनंद ले सकते हैं। यहीं पे आप खरीदारी भी कर सकते हैं। दूसरी जगह के मुकाबले यहां पर सामान सस्ता मिलता है।
  • जारवा आदिवासी क्षेत्र
  • बरातांग और लाइम स्टोन केव। Speed Boat से यहाँ जाने में काफी ज़्यादा मजा आता है। इसकी लागत पड़ती है 700 रुपए प्रति व्यक्ति।
  • वडलूर बीच
  • काला पत्थर 
  • एलिफेंट बीच
  • साॅ-मिल जहां पर आपको लकड़ियों से बना सामान मिलेगा। इसे आप चाहें तो खरीद भी सकते हैं।

 

Water Sports  – Activities में क्या करें ?

दोस्तों, वाटर एक्टिविटी में आप स्कूबा डाइविंग का आनंद ले सकते हैं। साथ ही पानी के अंदर अपनी वीडियो भी बना सकते हैं। इसके लिए आपको ज्यादा पैसा नहीं देना होगा।

कौन नहीं कर सकता Scuba Diving

  • ब्लड प्रेशर की दिक्कत
  • कान के परदे में सुराख
  • शुगर (Diabetes)
  • अगर आपको अस्थमा की प्राॅबलम है
  • दिल की बीमारी है
  • छोटे बच्चों को भी मना है।10 साल के ऊपर वाले कर सकते हैं।

कितना चार्ज लगेगा – इसके लिए आपको 3000 रुपए प्रति व्यक्ति चार्ज लगेगा।

आप Snorkeling भी कर सकते हैं। इसके लिए आपको 1000 रुपए पर परसन देना होगा। ये आपको sea surf से बस कुछ नीचे कराया जाएगा लेकिन इसे करने में बहुत मजा आता है। यह आप तब करिए जब Scuba Diving न कर पाएं वरना दोनों एक साथ न ट्राई करें।

इसके अलावा इन्हें भी करें ट्राई –

  • बनाना राइड  (रुपए 800 पर परसन)
  • जेट स्की (रुपए 800  पर परसन)
  • ग्लास बोट (रुपए 700 पर परसन). जो स्नॉर्केलिंग या स्कूबा डाइविंग न कर पाएं केवल वही लोग इसे ट्राई करें।

फ्रेंड्स। आई होप, आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई होगी। आपको एक बार फिर से नमस्कार और सायोनारा। मिलते हैं एक नई जानकारी के साथ। बने रहिए funnyooze के साथ।